पृथ्वी का इतिहास व पृथ्वी की उत्पत्ति कैसे हुई

पृथ्वी की उत्पत्ति कैसे हुई

पृथ्वी की उत्पत्ति कैसे हुई?

बिग बैंग से निकले पदार्थ अंतरिक्ष में बिखर गए, गुरुत्वाकर्षण आकर्षण के कारण धीरे-धीरे विलीन हो गए, जिसके परिणामस्वरूप सभी ग्रहों का जन्म हुआ, जिनमें से एक हमारी पृथ्वी थी। प्रारंभ में, पृथ्वी आग के गोले के रूप में अस्तित्व में थी, जिसका तापमान लगभग 1200 डिग्री सेल्सियस था, जो पिघले हुए लावा के महासागरों से घिरा हुआ था। उस समय मंगल ग्रह के समान आकार का थिया नामक ग्रह 15 किलोमीटर प्रति सेकंड की गति से पृथ्वी से टकराया। इन दोनों ग्रहों के बीच टक्कर से पृथ्वी के आकार में वृद्धि हुई। जब थिया पृथ्वी से टकराया तो पृथ्वी का एक छोटा सा हिस्सा अलग होकर पृथ्वी की परिक्रमा करने लगा, जिसे आज हमारा प्राकृतिक उपग्रह चंद्रमा कहा जाता है।

जैसे-जैसे पृथ्वी का आकार बढ़ता गया, उसका गुरुत्वाकर्षण बल भी तीव्र होता गया, जिससे पृथ्वी अपने आसपास के आकाशीय पिंडों को आकर्षित करने लगी, जिससे पृथ्वी पर उल्कापिंडों की बारिश होने लगी। इससे पृथ्वी का तापमान फिर से बढ़ गया और बढ़ते तापमान के कारण निकली गैसों से पृथ्वी के वायुमंडल का निर्माण हुआ। हालाँकि, पृथ्वी अभी भी जीवन के लिए अनुकूल नहीं थी।

जैसे-जैसे समय बीतता गया, उल्कापिंडों की बारिश बंद हो गई और पृथ्वी का तापमान कम होने लगा। संपूर्ण पृथ्वी बर्फ से ढकी हुई थी, जो हिम युग का प्रतीक था। लाखों वर्षों में, ज्वालामुखी विस्फोटों के दबाव के कारण बर्फ में दरारें पड़ गईं और इन विस्फोटों से निकलने वाली गर्म गैसों ने बर्फ को पिघला दिया। वातावरण ठंडा हो गया, जिससे सदियों तक वर्षा हुई। इसके परिणामस्वरूप विशाल महासागरों का निर्माण हुआ और पृथ्वी रहने योग्य बन गई।

डायनासोर का अंत कैसे हुआ?

लगभग 6.6 करोड़ वर्ष पहले, पृथ्वी पर सारा जीवन फल-फूल रहा था। उस समय, इजिप्टा नामक एक विशाल क्षुद्रग्रह, 17,000 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से यात्रा करते हुए, पृथ्वी से टकराया, जिससे एक विनाशकारी विस्फोट हुआ जहां यह दुर्घटनाग्रस्त हो गया (वर्तमान मेक्सिको)। इस प्रभाव से पृथ्वी टूट गई और आकाश में मलबा फैल गया। जैसे ही यह पृथ्वी पर वापस आया, इसने विनाशकारी विनाश किया। इस टकराव के परिणामस्वरूप बड़े पैमाने पर भूकंप आया, महासागरों में सुनामी आई और पृथ्वी की सतह के नीचे ज्वालामुखी विस्फोट हुआ, जिससे वायुमंडल में जहरीली गैसें निकलीं, जिससे डायनासोर सहित कई प्रजातियां विलुप्त हो गईं। हालाँकि, कुछ स्तनधारी, रीढ़ की हड्डी और बालों वाले जीव, पृथ्वी के भीतर इस विनाशकारी घटना से बचने में कामयाब रहे।

पृथ्वी पर जीवन की शुरुआत कैसे हुई?

3.8 अरब वर्ष पहले पृथ्वी पर जीवन की यात्रा के दौरान पानी का उदय हुआ। लगातार, ज्वालामुखी फटते रहे जबकि बिजली के तूफान आते रहे, इन बिजली के हमलों के माध्यम से न केवल पानी और नमक बल्कि अन्य तत्व भी ग्रह पर आए। इनमें कार्बन और अमीनो एसिड जैसे पदार्थ थे जो हर जीवित प्राणी और पौधे में मौजूद होते हैं।

इतनी ऊँचाई से गिरने वाली बिजली के झटके उन्हें गहरे पानी में ले गए जहाँ सूरज की किरणों तक पहुँचना असंभव था। आख़िरकार, बिजली की ये चमक ठंडी हो गई और पानी में स्थिर होने लगी।

बाद में, उन्होंने चिमनियों के समान आकार लेना शुरू कर दिया और ज्वालामुखी विस्फोटों की दरारों में पानी रिसने के साथ, इन चिमनियों से धुआं निकलने लगा, जिसने बाद में एक प्रकार के रासायनिक सूप का रूप ले लिया। इससे पृथ्वी पर सूक्ष्म जीवन की शुरुआत हुई और एक-कोशिका वाले बैक्टीरिया का उद्भव हुआ।

पृथ्वी पर ऑक्सीजन की उत्पत्ति कैसे हुई?

पृथ्वी के निर्माण के समय, जब समुद्र की निचली सतह पर पौधे और पत्तियाँ उग रही थीं और उन पर जीवित सूक्ष्मजीव विकसित हो रहे थे, वैज्ञानिक भाषा में उन्हें “स्ट्रोमेटोलाइट्स” कहा जाता है। वे अपना भोजन सूर्य की किरणों से उत्पन्न करते हैं, इस प्रक्रिया को वैज्ञानिक रूप से “प्रकाश संश्लेषण” कहा जाता है।

प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया में, सूर्य का प्रकाश कार्बन डाइऑक्साइड और पानी को ग्लूकोज में परिवर्तित करता है। इसके अतिरिक्त, ऑक्सीजन गैस उपोत्पाद के रूप में उत्पन्न होती है, जो मानव जीवन के लिए महत्वपूर्ण है।

एक लंबी प्रक्रिया के दौरान, ऑक्सीजन गैस महासागरों में भर गई, जिससे पानी में मौजूद लोहे में जंग लगने की प्रक्रिया शुरू हो गई, जिससे लोहे के अस्तित्व का पता चला। काफी समय के बाद, समुद्र की सतह पर ऑक्सीजन दिखाई देने लगी, जिससे जीवन पनपने लगा।

वैज्ञानिकों के अनुसार लगभग 2 अरब वर्षों तक पृथ्वी पर ऑक्सीजन का स्तर बढ़ता रहा और साथ ही पृथ्वी के घूमने का समय भी कम होता गया। लगभग 1.5 अरब वर्ष पहले, एक दिन वर्तमान 24 घंटों की तुलना में लगभग 16 घंटे लंबा होता था।

धीरे-धीरे, समय के साथ, समुद्र के नीचे की ज़मीन बड़ी-बड़ी प्लेटों में तब्दील हो गई और उसके नीचे का लावा ऊपरी सतह को हिलाने लगा। परिणामस्वरूप, पृथ्वी की सभी प्लेटें विलीन होकर एक विशाल भूभाग बन गईं। लगभग 4 अरब वर्ष पहले, “रोडिनिया” नामक पहला महाद्वीप बना था।

परिणामस्वरूप, पृथ्वी का तापमान 30 डिग्री सेल्सियस कम हो गया और दिन 18 घंटे का हो गया। उस दौरान पृथ्वी की स्थिति आज के मंगल ग्रह जैसी थी।

लगभग 750 मिलियन वर्ष पहले, पृथ्वी के नीचे पिघले हुए लावा से गर्मी निकली, जिसने ग्रह को दो भागों में विभाजित कर दिया। इस विभाजन के कारण पृथ्वी की सतह कमजोर हो गई और यह दो भागों में विभाजित हो गई, जिससे महाद्वीपों का निर्माण हुआ जिन्हें साइबेरिया और गोंडवाना के नाम से जाना जाता है।

Leave a Comment