डॉ भीमराव अंबेडकर की मृत्यु किसने की थी? “मृत्यु का सच”

डॉ भीमराव अंबेडकर की मृत्यु किसने की थी

भारतीय समाज के महान नेताओं में से एक डॉ. बी.आर. अम्बेडकर ने अपना जीवन विभाजन, असमानता और उत्पीड़न के खिलाफ वकालत करने के लिए समर्पित कर दिया। नए भारत के निर्माण में उनके योगदान ने अहम भूमिका निभाई। इस ब्लॉग पोस्ट में, हम जानेंगे कि डॉ भीमराव अंबेडकर की मृत्यु किसने की थी।

डॉ भीमराव अंबेडकर का जीवन परिचय

संविधान निर्माता डॉक्टर भीमराव अंबेडकर का जन्म मध्य प्रदेश के इंदौर शहर में ’महू’ में हुआ था। जिसे वर्तमान नाम अंबेडकर नगर है। अंबेडकर जी का जन्म 14 अप्रैल 1891 ईस्वी में हुआ था।डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी दलित जाति से थे,उनकी जाति को छूत माना जाता था। इसलिए बाबा साहेब का बचपन बहुत कठिनाइयों से व्यतीत हुआ। बाबा साहब और सभी निम्न जाति के लोगों को समाज से बहिष्कृत ,अपमान ,भेदभाव ,छुआछूत आदि कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था।परंतु बाबा साहब ने हार नहीं मानी उन्होंने कठिनाइयों से लड़ते हुए, दुनिया में अपना एक अलग पहचान बनाई।आइए अब हम इस ब्लॉग के माध्यम से “भीमराव अंबेडकर की मृत्यु किसने की ” के बारे में विस्तार से जानते है।

बाबासाहेब अंबेडकर की शिक्षा

डॉ. ए.एस. भीमराव अंबेडकर ने 1907 में मैट्रिक पास करने के बाद 1912 में ‘एलफिंस्टन कॉलेज’ से स्नातक की उपाधि प्राप्त की। 1913 में उन्होंने 15 प्राचीन भारतीय व्यापारों पर एक शोध पत्र लिखा। 1915 में डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने एम.ए. की उपाधि प्राप्त की। कोलंबिया विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में डिग्री। 1917 में उन्होंने ‘भारत के लिए राष्ट्रीय विकास और विश्लेषणात्मक अध्ययन’ विषय पर ध्यान केंद्रित करते हुए अपनी पीएचडी पूरी की। उल्लेखनीय है कि उन्होंने 1917 में लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में शोध किया, लेकिन आर्थिक तंगी के कारण वह अपनी शिक्षा पूरी नहीं कर सके।

बाद में, वह लंदन चले गए और ‘लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स’ में अपनी शिक्षा पूरी की। साथ ही, उन्होंने एम.एससी. की डिग्री भी हासिल की। और बार-एट-लॉ। वह अपने युग के सबसे शिक्षित और गहन विचारकों में से एक थे। गौरतलब है कि उन्हें 64 विषयों में महारत हासिल थी, उन्हें 9 भाषाओं का ज्ञान था और उन्होंने दुनिया के सभी धर्मों का अध्ययन किया था।

बाबासाहेब का राजनैतिक जीवन

1936 में डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने इंडिपेंडेंट लेबर पार्टी की स्थापना की। 1937 के केंद्रीय विधान सभा चुनाव में उनकी पार्टी ने 15 सीटें जीतीं। अम्बेडकर ने अपने राजनीतिक दल का नेतृत्व अखिल भारतीय अनुसूचित जाति महासंघ में ले लिया। हालाँकि, 1946 में भारत की संविधान सभा के लिए हुए चुनाव में उनकी पार्टी का प्रदर्शन काफी ख़राब रहा।

डॉ. ए.एस. भीमराव अम्बेडकर ने अछूत समुदाय को “हरिजन” कहने के कांग्रेस और महात्मा गांधी के फैसले पर असंतोष व्यक्त किया। उनका मानना ​​था कि अछूत समुदाय के सदस्य समाज के अन्य सदस्यों के बराबर थे। अम्बेडकर को रक्षा सलाहकार समिति और वायसराय की कार्यकारी परिषद में श्रम मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था।

अपनी विद्वतापूर्ण प्रतिष्ठा के कारण वे स्वतंत्र भारत के पहले कानून मंत्री बने। स्वतंत्र भारत के लिए संविधान का मसौदा तैयार करने के लिए एक समिति का गठन किया गया था। इस समिति का अध्यक्ष भीमराव को नियुक्त किया गया।

भीमराव अंबेडकर की महत्वपूर्ण कृतियाँ

डॉ. ए.एस. अम्बेडकर ने अपने जीवनकाल में कई महत्वपूर्ण रचनाएँ लिखीं, जो सामाजिक सुधार की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम का प्रतिनिधित्व करती हैं। उनके लेखन में सामाजिक न्याय, जाति भेदभाव, धर्म और भारतीय संविधान जैसे विभिन्न विषय शामिल थे। अंतर्राष्ट्रीय महात्मा फुले योजना और सामाजिक सेवा और शिक्षा मंत्रालय की स्थापना उनकी उल्लेखनीय उपलब्धियों में से थी।

डॉ अंबेडकर द्वारा लिखित पुस्तकें :

लेखन में रुचि के कारण डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने कई पुस्तकें लिखीं। उनके द्वारा लिखी गई पुस्तकों की सूची निम्नलिखित है:-

  • भारत का राष्ट्रीय अंश
  • भारत में जातियाँ और उनका मशीनीकरण
  • भारत में छोटी जोत वाली कृषि और उसका उपचार
  • मूलनायक
  • ब्रिटिश भारत में शाही वित्त का विकेंद्रीकरण
  • श्री गांधी और अछूतों की मुक्ति
  • रानाडे गांधी और जिन्ना
  • शूद्र कौन है और कैसे है?
  • भगवान बुद्ध और बौद्ध धर्म
  • महाराष्ट्र भाषाई प्रांत
  • रुपये की समस्या: उत्पत्ति और समाधान
  • ब्रिटिश भारत में प्रांतीय वित्त का उदय
  • बहिष्कृत भारत
  • लोग
  • जाति पृथक्करण
  • संघ बनाम स्वतंत्रता
  • पाकिस्तान पर विचार

डॉ भीमराव अंबेडकर की मृत्यु किसने की थी?

बाबा साहब भीमराव अंबेडकर को डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, न्यू राइट्स एवं अर्थराइटिस जैसी भयंकर बीमारियों ने ग्रसित कर ली थी। डायबिटीज की वजह से बाबा साहब काफी कमजोर हो गए थे एवं गठिया की वजह से वह हमेशा दर्द से परेशान रहा करते थे।

इसी दौरान 6 दिसंबर वर्ष 1956 को दिल्ली स्थित आवास पर नींद के दौरान ही बाबा साहब की मृत्यु हो गई थी। मरणोपरांत वर्ष 1990 में उन्हें भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।

हर वर्ष 6 दिसंबर को बाबा साहब भीमराव अंबेडकर के पुण्यतिथि मनाया जाता है। बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की पुण्यतिथि के दिन पूरे देश में “महापरिनिर्वाण दिवस” के रूप में मनाया जाता है।

जानकारी के लिए मैं बता दूं कि बाबा साहब भीमराव अंबेडकर बचपन से बौद्ध नहीं थे। वह एक महार जाति से ताल्लुक रखते थे। इस जाति से संबंधित होने के कारण बाबा साहब को बहुत ही उच्च- नीच का भेदभाव का सामना करना पड़ा था।

इसके लिए वह अंतिम सांस तक लड़े थे। आज उन्हीं के बदौलत हमारे  शोषित जाति के दंश झेलने वाले भाई-बहन आज संविधान के अनुसार कहीं भी आ जा सकते हैं और अपने सपने को साकार कर रहे हैं।

उच्च नीच के दंश के कारण बाबा साहब भीमराव अंबेडकर ने बौद्ध धर्म को अपना लिया था। उनके अपनाने के पश्चात दलित जाति के बहुत बड़ी संख्या में लोगों ने बौद्ध धर्म को अपना लिया था।

इसलिए बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की पुण्यतिथि के दिन पूरे देश भर में महापरिनिर्वाण दिवस के रूप में मनाया जाता है।

समाप्ति:

डॉ. भीमराव अंबेडकर की मृत्यु ने हमें एक ऐतिहासिक नेता की कमी का आभास कराया है, लेकिन उनकी विचारशीलता, सामाजिक सुधार की प्रेरणा, और उनके योगदान का प्रभाव हमारे समाज में आज भी महत्वपूर्ण है। इस लेख से हम उनके जीवन और कार्यों के प्रति आभास करते हैं और उनकी महत्वपूर्णता को समझते हैं, जो एक बेहतर और समृद्धि युक्त समाज की दिशा में हमें मार्गदर्शन कर सकती है।

Leave a Comment