मोहनजोदड़ो: प्राचीन सभ्यता की खोज

मोहनजोदड़ो

मोहनजोदड़ो का इतिहास एक ऐसे प्राचीन सभ्यता है जो कई हज़ार वर्षों पहले इस दुनिया में मौजूद थी। यह एक विशेष नगरी थी जो सिंधु घाटी सभ्यता के प्रमुख नगरों में से एक थी। यहां ऐसी कई चीज़ें मिली जो आज की 21वीं सदी के के लिहाज से भी उपयोगी हैं। मोहेंजोदड़ो की सभ्यता में विकास और प्रगति के लिए भविष्य की सोच रखी गई थी। इसकी खोज बहुत दिलचस्प है, क्योंकि इस प्राचीन सभ्यता की प्रचीनकथा ही इतना लोकप्रिय है। इस ब्लॉग में, हम आपको मोहेंजोदड़ो के इतिहास को विस्तार से जानने के लिए बताएंगे।

ऐसे हुई थी मोहनजोदड़ो की खोज

मोहनजो-दारो एक प्राचीन सभ्यता है जो हजारों साल पहले इस दुनिया में मौजूद थी। यह एक उल्लेखनीय शहर था और सिंधु घाटी सभ्यता के प्रमुख शहरी केंद्रों में से एक था। इस स्थल पर की गई कई खोजें 21वीं सदी के संदर्भ में भी प्रासंगिक बनी हुई हैं। मोहनजो-दारो की सभ्यता में भविष्य में प्रगति और विकास का दृष्टिकोण था। इसके इतिहास की खोज इसलिए दिलचस्प है क्योंकि इस सभ्यता की प्राचीन गाथा बेहद लोकप्रिय हो चुकी है।

मोहनजोदड़ो का अनोखा इतिहास

मोहनजोदड़ो, जिसका अर्थ है “मृतकों का टीला”, दक्षिण एशिया का सबसे पुराना शहर माना जाता है, जो हजारों साल पहले अस्तित्व में था। इसकी सावधानीपूर्वक योजना बनाई गई और इसका निर्माण लगभग 2600 ईसा पूर्व सिंध, पाकिस्तान के क्षेत्र में किया गया था। साइट की खुदाई से आकर्षक जानकारियां सामने आई हैं, जिनमें बड़ी संरचनाएं, जलाशय, मजबूत दीवारों वाले घर, सुंदर कलाकृतियां, मिट्टी के बर्तन, सिक्के, मूर्तियां, पक्की ईंटें और बहुत कुछ शामिल है, जो एक सुव्यवस्थित शहर का संकेत देता है। मोहनजो-दारो में कई खुदाई की गई हैं, हालांकि अब तक साइट का केवल एक तिहाई ही खोजा जा सका है, जो 200 हेक्टेयर क्षेत्र को कवर करता है।

1856 में एक अंग्रेज इंजीनियर ने रेलवे ट्रैक बनाते समय इस प्राचीन सभ्यता की खोज की थी। वह रेलवे गिट्टी बनाने के लिए पत्थरों की खोज कर रहा था, तभी उसकी नजर आधुनिक ईंटों के समान अविश्वसनीय रूप से मजबूत और प्राचीन ईंटों पर पड़ी। एक स्थानीय व्यक्ति ने उन्हें बताया कि सभी के घर खुदाई के दौरान मिली इन ईंटों से बने हैं, जिससे इंजीनियर को एहसास हुआ कि यह स्थान एक प्राचीन शहर से जुड़ा हुआ है। इस इंजीनियर ने सबसे पहले सिंधु नदी के तट के पास की जगह की पहचान की, इस प्रकार इसे सिंधु घाटी सभ्यता का नाम दिया गया। आज तक, मोहनजो-दारो एक रहस्यमय पहेली बनी हुई है, जिसके रहस्य खुलने का इंतजार कर रहे हैं।

मोहनजोदड़ो के इतिहास की रोचक विशेषताएँ

पुरातात्विक खुदाई के माध्यम से, यह पता चला कि मोहनजो-दारो के लोगों के पास गणित का ज्ञान था, वे जोड़ना, घटाना और मापना जानते थे। विभिन्न शहरों में उपयोग की जाने वाली ईंटें एक ही वजन और आकार की होती थीं।

पुरातत्वविदों के अनुसार सिंधु घाटी सभ्यता के लोग संगीत, गायन और खेल के शौकीन थे। उन्होंने कुछ संगीत वाद्ययंत्र और खिलौने खोजे थे। उन्होंने साफ-सफाई पर भी ध्यान दिया. पुरातत्वविदों को कंघी, साबुन और दवाएँ मिलीं। उन्होंने कृत्रिम दंत चिकित्सा कार्य की भी जांच की, जिससे संकेत मिलता है कि वे नकली दांतों का इस्तेमाल करते थे।

उत्खनन से विभिन्न धातु के आभूषण और सूती कपड़े मिले। इनमें से कई आभूषण आज भी संग्रहालयों में प्रदर्शित हैं।

इसके अलावा, कई कलाकृतियाँ, मूर्तियाँ, सिक्के, लैंप, बर्तन और उपकरण भी पाए गए और दुनिया भर के विभिन्न संग्रहालयों में संरक्षित किए गए।

खुदाई से पता चला कि वे खेती में लगे हुए थे और काले गेहूं को सावधानीपूर्वक संग्रहीत करते थे, जिसे आज भी देखा जा सकता है।

कुछ लिखित दस्तावेज़ भी मिले, जिससे पता चलता है कि उन्हें पढ़ने-लिखने का ज्ञान था।

ऐसा माना जाता है कि वे सोने और चांदी के आभूषण भी पहनते थे, लेकिन समय के साथ चोरी होने के कारण इसका प्रमाण दुर्लभ है।

सिंधु घाटी सभ्यता अच्छी तरह से विकसित थी, और उस युग के दौरान, लोग यात्रा के लिए बैलगाड़ी और भैंस द्वारा खींची जाने वाली गाड़ियों जैसे परिवहन साधनों का उपयोग करते थे।”

(नोट: चूंकि यह पुनर्लेखन Google बेस के लिए है, जो संभवतः सामग्री की लंबाई को सीमित करता है, मैंने इसके मुख्य बिंदुओं को संरक्षित करते हुए मूल लेख को संक्षेप में प्रस्तुत किया है।)

मोहनजोदड़ो के विनाश के कारण

मोहनजोदड़ो के विनाश के कारण के बारे में खोजकर्ताओं और वैज्ञानिकों की मान्यता है कि यह प्राकृतिक आपदा और जलवायु में बदलाव के कारण तबाह हुआ था। सिंधु नदी में आने वाली बाढ़ के कारण इसका विनाश हुआ और कुछ लोग इसे भूकंप के भयंकर प्रकोप का परिणाम बताते हैं। इसके अतिरिक्त, कुछ वैज्ञानिकों ने नरकंकालों के आधार पर इसके विनाश का कारण किसी विस्फोट को भी समर्थन किया है। मोहनजोदड़ो की घाटी सभ्यता और उसके प्रगतिशील नगर का विनाश इन घटनाओं के परिणामस्वरूप हुआ। कहा जाता है कि इसी भूकंप के कारण मोहनजोदड़ो ने दबाव सहा और भूकंप के बाद हिमालय पर्वत बन गया। कुछ खोज में यह भी ज्ञात हुआ है कि उस समय वहां रहने वालों के दुश्मन भी हुआ करते थे, और कुछ हमलावरों ने वहां हमला करके पूरे शहर को नष्ट कर दिया था।”

फिल्म भी बन चुकी है: मोहेंजोदड़ो

मोहनजोदड़ो

मोहेंजोदड़ो का इतिहास इतना प्रसिद्ध है कि मशहूर डायरेक्टर आशुतोष गोवारिकर ने 2016 में इस पर एक फिल्म बनाई थी, जिसका नाम था ‘मोहेंजोदड़ो’। इस फिल्म में रितिक रोशन और पूजा हेगड़े ने मुख्य भूमिकाएँ निभाई थीं। आशुतोष विशाल और उत्कृष्ट फिल्में बनाने के लिए प्रसिद्ध हैं, और इससे पहले उन्होंने फिल्में जैसे ‘लगान’, ‘स्वदेश’, ‘जोधा अकबर’ और अन्य कई फिल्में बनाई हैं।”

रोचक तथ्य

विश्व की सबसे प्राचीन और सभ्य सिंधु घाटी सभ्यता में लोग आज ही तरह ही प्रकृति प्रेमी हुआ करते थे एवं पेड़, नदियों एवं भगवान की पूजा करते थे। इसके कुछ प्रमाण खुदाई के दौरान प्राप्त हुए हैं। शिव पूजा, सूर्य आराधना एवं स्वास्तिक चिंह के भी कई प्रमाण मिले हैं।

सिंधु घाटी सभ्यता के लोग मछली पकड़ते थे, जंगली जानवरों का शिकार करते थे एवं व्यापार भी करते थे।

सिंधु घाटी सभ्यता अर्थात मोहनजोदड़ो नगर का सबसे महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि यहां नारियों को मान-सम्मान दिया जाता था एवं नारी पूजा को भी बल दिया जाता था।

मोहनजोदड़ो सभ्यता में लोग धरती को अन्न, फल उपलब्ध करवाने वाली उर्वरता की देवी मानते थे और धरती की पूजा करते थे।

मोहनजोदड़ो का इतिहास काफी गर्वपूर्ण है, हालांकि कुछ रहस्य भी जुड़े हुए हैं। इससे जुड़ा एक रहस्य यह है कि मोहनजोदड़ो में पहली बार पहुंचने पर वैज्ञानिकों को कुछ मानव, जानवरों एवं पक्षियों के कंकाल मिले थे।

परीक्षा की दृष्टि से महत्वपूर्ण FAQ

प्रश्न 1: मोहेंजोदड़ो का सबसे बड़ा भवन कौन सा है?

उत्तर: मोहेंजोदड़ो की सबसे बड़ी इमारत अन्नागार या अन्नकोठार या धान्यागार है। यह 45.71 मी. लम्बा और 15.23 मी चौड़ा है।

प्रश्न 2: मोहेंजोदड़ो का अंत कैसे हुआ?

उत्तर: वैज्ञानिकों के मुताबिक इसके विनाश के कारण प्राकृतिक आपदा और जलवायु में बदलाव के कारण मानते हैं। कई लोग इसके विनाश का कारण भयंकर भूकंप बताते हैं।

प्रश्न 3: मोहेंजोदड़ो क्यों प्रसिद्ध है?

 उत्तर: मोहेंजोदड़ो वह प्रसिद्ध स्थान है जहाँ सिंधु घाटी सभ्यता के अवशेष मिले हैं। मोहेंजोदड़ो में की गई खुदाई से प्राप्त वस्तुओं से प्राचीन इतिहास समझने में बहुत मदद मिली है।

प्रश्न 4: मोहेंजोदड़ो की खोज किन-किन खोजकर्ताओं ने की थी?

उत्तर: 1922 में राखालदास बेनर्जी जो पुरातत्व सर्वेक्षण के सदस्य थे, उन्होंने पाकिस्तान में सिंधु नदी के पास में खुदाई का काम किया था। उन्हें बुद्ध का स्तूप सबसे पहले दिखाई दिया। उसके बाद इस खोज को आगे बढ़ाते हुए 1924 में काशीनाथ नारायण व 1925 में जॉन मार्शल (ब्रिटिश) ने खुदाई का काम करवाया।

प्रश्न 5: मोहेंजोदड़ो का क्या मतलब होता है? और इसका निर्माण कब हुआ था?

उत्तर: मोहेंजोदड़ो का मतलब है मुर्दों का टीला, दक्षिण एशिया में बसे इस शहर को सबसे पुराना शहर माना जाता है, यह बहुत ही व्यवस्थित ढंग से बनाया गया था। पाकिस्तान के सिंध में 2600 BC के आस पास इसका निर्माण हुआ था।

प्रश्न 6: मोहनजोदड़ो अब कहाँ स्थित है?

उत्तर: मोहन जोदड़ो पाकिस्तान के सिन्ध प्रांत का एक पुरातात्विक स्थल है।

आशा है कि आपको यह ब्लॉग जो मोहेंजोदड़ो के बारे में है, यह भावपूर्ण लगा होगा। इसके साथ ही, इस ब्लॉग के माध्यम से आपने इतनी प्राचीन सभ्यता के बारे में काफी ज्यादा जानकारी प्राप्त की होगी। यदि आपको हमारा यह ब्लॉग पसंद आया हो, तो आगे भी इसे शेयर करें ताकि अन्य लोग भी मोहेंजोदड़ो के इतिहास को जान सकें। इसी तरह के अन्य ब्लॉग्स पढ़ने के लिए आप हमारी Online saphar की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

Leave a Comment